आपका यक़ीन ही आपका यथार्थ है ।

ज़िन्दगी किसी के रोके नहीं रूकती है बस चलती जाती है बहती जाती है नदी के धारा के समान। कभी रुलाती है कभी हँसाती है और सब…… Read more “आपका यक़ीन ही आपका यथार्थ है ।”

भारत की क़ानून व्यवस्था

कितना घोर अन्याय है एक लड़की के साथ ज़ुल्म हो जाता है, पुलिस FIR नहीं लेती । उलटे उसके पिता को केस ना करने के लिए मारपीटा…… Read more “भारत की क़ानून व्यवस्था”

वही करो जो मन को शकुन दे

किसी को ख़ुश करने के लिये काम मत करो किसी को दुखी करने के लिए काम मत करो काम बस वही करो जो सत्य और सुंदर हो…… Read more “वही करो जो मन को शकुन दे”

दूसरों को सुधारने की चाहत

इंसान अपनी निजी ज़िन्दगी में हमेशा इक अच्छे और ईमानदार मित्र की चाहत रखता है और जाने अनजाने में इसकी तलाश भी करता रहता। इसलिये इसे मैं…… Read more “दूसरों को सुधारने की चाहत”

हम अपने नियति के निर्माता है

मेरी अपनी मान्यता है कि इंसान अपने सोच और यक़ीन के अनुसार ही साधारण और असाधारण बनता है । जैसे ही बच्चा इस धरती पर आता है…… Read more “हम अपने नियति के निर्माता है”

पुरूषों की मानसिकता

सैकड़ों सालों से पुरुषों के द्वारा पत्नी को नाना प्रकार से शारीरिक और मानसिक रूप से प्रताड़ित किया जाता रहा है।सती प्रथा, बाल बिवाह, बहुविवाह, तलाक़ और…… Read more “पुरूषों की मानसिकता”

प्रकृति सबों को समान स्वतंत्रता देती है

प्रकृति सबो को समान रूप से अपनी ज़िंदगी में चुनाव करने की स्वतंत्रता देती है, इस बावत किसी भी प्रकार की कोई पक्षपात नहीं होती है। पर…… Read more “प्रकृति सबों को समान स्वतंत्रता देती है”